Diwali 2021 kab hai | Diwali ki puri jankari

दिवाली या दीपावली भारत का सबसे प्रसिद्ध प्राचीन हिंदू त्योहार है। जिसे पुरे परिवार के साथ खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। दिवाली हर साल कार्तिक मास के आमावस्या तिथी को मनाई जाती है। दिवाली मे उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं।

यह त्योहार पांच दिनो कि होती है। जिसका शुभारम्भ धनतेरस से होता है। और समापन भाई दूज को होता है इन पांच दिनो वाली दिवाली मे बहुत ही अनुस्ठानो का पालन किया जाता है

इस दिन लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है। दिवाली के दिन पूजा करने के लिए सबसे शुभ समय सूर्यास्त के बाद का होता है।

वर्ष 2021 मे दिवाली कब मनाया जाएगा?

दिवाली 2021 कि तारीख व मुहूर्त

4 नवमबर 2021 , (गुरुवार)

अमावस्या तिथी शुरू 6.05 AM (4 नवम्बर , गुरुवार)

अमावस्या समाप्ति 2:45 AM (5 नवम्बर 2021)

 

जैसा कि दिवाली नजदीक है, हम सभी अपने प्रियजनों के लिए कुछ मनमोहक उपहार लेने के लिए तैयार हैं

Diwali 2021 ideas: 5 सर्वश्रेष्ठ दिवाली उपहार

हम आपके लिए 2021 के लिए शीर्ष 5 सर्वश्रेष्ठ दिवाली उपहार विचारों की एक पूरी सूची लेकर आए हैं।

1. चांदी की पूजा की वस्तुएं या थाली: दिवाली न केवल एक त्योहार है, बल्कि यह सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक अवसरों में से एक है जहां देवताओं की पूजा की जाती है।

इसलिए यदि आप अपने धर्मपरायण परिवार के लिए सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन दिवाली उपहार खोजने की कोशिश कर रहे हैं तो कहीं न कहीं देखें और सुंदर चांदी की पूजा की वस्तुओं या विशेष दिवाली थाली सेट के लिए जाएं।

2. मिठाई और सूखे मेवे: दिवाली एक राष्ट्रीय उत्सव है।  यह एक सामाजिक कार्यक्रम भी है जहां परिवार इकट्ठा होते हैं, मिलते हैं और एक साथ मस्ती करते हैं।

इसलिए यदि आप मिलने-जुलने वालों को याद करने जा रहे हैं तो अपने ऑनलाइन दिवाली उपहार के रूप में पारंपरिक भारतीय मिठाइयाँ और सूखे मेवे भेजकर इसे भरें।

3. घर की सजावट: आपको भारत को दिवाली उपहार भेजना चाहिए जो आपके प्रियजनों के किसी उद्देश्य की पूर्ति करेगा

इसलिए, सुंदर घर की सजावट की चीजें जैसे कि दीवार पर लटकने वाले या दरवाजे के हैंगिंग जिन्हें दिवाली उत्सव का शुभ हिस्सा माना जाता है, को पूर्ण रूप से समझ में आ सकता है।

4. चांदी के सिक्के: एक शुभ समारोह होने के नाते, दिवाली उन लोगों के लिए एक महान स्थान रखती है जो व्यवसाय में हैं।  इस दिन लोग नए सिरे से कारोबार शुरू करते हैं,

इसलिए लक्ष्मी गणेश को चांदी के सिक्के भेजने से लाभ हो सकता है।  आप इसे भारत में अपने प्रियजनों को भी भेज सकते हैं।

5. ट्रेंडी अपैरल: हम सभी को अच्छे कपड़े पहनना पसंद होता है, खासकर ऐसे खास त्योहारों पर।  तो कुछ अच्छे ट्रेंडी कपड़े भेजना बिल्कुल अद्भुत उपहार है।

इसके अलावा, जब पुरुषों और महिलाओं के लिए कपड़े चुनने की बात आती है तो आप कभी भी विकल्पों से बाहर नहीं जाएंगे।  आपको केवल यह जानने की जरूरत है कि व्यक्ति का आकार, उम्र और पसंद या नापसंद क्या है।

दिवाली के 5 दिन

धनतेरस 2021में कब है? धनतेरस पर 5 लाइन

पहला दिन: धनतेरस 2021

कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है।

धनतेरस 2 नवंबर 2021, (मंगलवार)

शुभ मुहूर्त शाम 5:25 से शाम 6 बजे तक

प्रदोष काल शाम 5:39 से 8:14 बजे तक

वृषभ काल 6:51 से 8:47 बजे तक

1. धन और आरोग्य से जुड़ा त्योहार धनतेरस इस दिन भगवान कुबेर और  धनवन्तरी की पुजा की जाती है

2. कहा जाता है, धनतेरस के दिन घर के मुख्य द्वारा या कक्ष के सामने बेकार वस्तुएँ बिल्कुल भी नहीं रखी जाती है।

3. इस दिन अपने पुरे घर की साफ सफाई जरूर रखें।

4. इस दिन आभूषण, नए बर्तन और मुल्यवान धातुएँ खरीदने की परम्परा होती है।

5. धनतेरस के दिन किसी भी व्यक्ति को उधार देने से बचे

नरक चतुर्दशी 2021 में कब है?

दूसरा दिन: नरक चतुर्दशी 2021

3 नवंबर 2021, (बुधवार)

दिवाली के दूसरे दिन कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी होता है।

इसे छोटी दीवाली , नरक चतुर्दशी, या काली चौदस के नाम से जाना जाता है।

इस दिन भगवान कृष्ण ने राक्षस नरकासुर का वध किया था इसलिए उस दिन को जीत के सम्मान मे मनाया जाता है।

इस दिन माता काली की पूजा की जाती है।

दिवाली 2021

तीसरा दिन: दिवाली 2021

4 नवंबर 2021, (गुरूवार)

पांच दिन के इस पर्व में मुख्य त्योहार दिवाली होता है।

दिवाली के दिन ही पूरा भारत रोशनी से जगमगाता है।

माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पुजा के साथ ही घर के चारों ओर धी के दियो की रोशनी फैल जाती है।

उस दिन  खुशियों का माहौल होता है। बच्चे ,बुडे और जवान सभी अपने तरीके से दिवाली के इस अवसर का आनंद लेते हैं।

दिवाली जो दिल से मनाई जाती है।

गोवर्धन पूजा 2021 में कब है?

चौथा दिन: गोवर्धन पूजा 2021

5 नवंबर 2021, (शुक्रवार)

दिवाली के अगले ही दिन  कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपता को गोवर्धन पूजा मनाई जाति है।

इस दिन लोग अपने घरो के आंगन में गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत का आर्कति बना कर उसकी पुजा करते है।

इस दिन गाय की पुजा भी की जाती है।

ऐसा माना जाता है की इस दिन बरीस और तुफान से ब्रजवासियों की सुरक्षा के लिए भगवान श्री कृष्ण ने पुरा गोवर्धन पर्वत अपने हाथ की सबसे छोटी ऊँगली पर उठाये थे।

गोवर्धन पूजा की परम्परा दवापर युग से ही चला आ रहा है

भाई-दुज 2021 में कब है?

पाँचवा दिन: भाई-दुज 2021

6 नवंबर 2021, (शनिवार)

भाई दुज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितिय तिथि को दिवाली के दुसरे दिन मनाया जाता है

इस पर्व को रकक्षाबंधन की तरह ही मनाया जाता है

पौराणीक कथाओं के अनुसार भाई दूज के दिन बहन अपने भाई की लम्बी उम्र के लिए यमराज की पूजा अर्चना करती है

इस दिन बहन अपने भाई को तिलक लगा कर उसकी लम्बी उम्र और शुरू सर्मिंधी की कामना करती है।

दिवाली पर 10 लाइन

1. दिवाली भारत का प्राचीन सबसे प्रसिद्ध त्योहार है।

2. यह त्योहार कार्तिक माह के अमावस्या मे मनाई जाती है

3. दिवाली से पहले हम सभी अपने घरों की साफ सफाई करते है।

4. यह पांच दिनो का त्योहार होता है।

5. इस त्योहार को श्री राम जी के अयोध्या वापस लौटने की खुशी मे मनाया जाता है।

6. इस दिन लोग अपने घरो और दुकानो को दिपो और फुलो से सजाया जाता है।

7. इस दिन रात मे  माता लक्ष्मी और भगवान श्री गणेश की पूजा की जाती है।

8. यह त्योहार अंधकार पर प्रकाश की विजय का प्रतिक है।

9. दिवाली के दिन घर के चारो ओर धी के दिए जलाए जाते है।

10. दिवाली खुशी, उत्साह, दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ मनाई जाती है।

Leave a Comment